शराब और मांस कोरोना के दोस्त, ये दोनों जहां रहेंगे वहां रोग बरकरार रहेगा

Coronavirus and liquor

इंदौर : लोगों के पास कुछ दिन पहले भोजन के लिए रुपए नहीं थे, अब उनके पास शराब खरीदने के लिए पैसे कहां से आ गए? शराब और मांस ही तो कोरोना के दोस्त हैं. ये दोनों जहां रहेंगे, वहां कोरोना रोग बरकरार रहेगा. लगभग दो महीने से शराब की बिक्री बंद थी, इससे लोगों ने संयम रखा हुआ था.

अब फिर से शराब की बिक्री शुरू हो गई है. इससे अब ऐसे हालात होने की आशंका रहेगी कि हालात सुधारना मुश्किल हो जाएगा. सरकार कह रही है कि इससे अर्थव्यवस्था सुधरेगी. सही दिशा में काम करने से भी देश की अर्थव्यवस्था का संचालन किया जा सकता है.

यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने गुरुवार को बुद्ध पूर्णिमा पर कही. लॉकडाउन के 46 दिन बाद उन्होंने कहा कि इस समय शराब की दुकान खोलने की जरूरत नहीं है. इससे तो और अधिक लोगों का दिमाग खराब होगा, तबीयत खराब होगी. एक ओर तो आप लोग दिन-रात चिकित्सक और पुलिस को लगाकर जनता को मरने से बचाने में जुटे हो, वहीं दूसरी ओर शराब पिलाकर मारने का काम कर रहे हो.

शराब नहीं मिल रही थी तो इतने दिनों से देश में संयम-संस्कार दिखने लगा था। अब शराब पीने से लोग पागलपन करने लगेंगे। संघस्थ ब्रह्मचारी सुनील भैया और कमल अग्रवाल ने बताया कि तीर्थोदय तीर्थ क्षेत्र सांवेर रोड पर विराजित आचार्य ने आज देश के नाम संदेश दिया.

Source: Naidunia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *