INDORE:हॉस्पिटल को बनाया हॉस्टल,पति पत्नी को एक ही रूम में रख दोनों से पूरा-पूरा लिया किराया

INDORE के प्राइवेट अस्पताल पैसा कमाने के लिए क्या कुछ नहीं करते। अस्पतालों में खुलेआम लूट से यह तो प्रदर्शित होता ही है कि सरकार उनकी जेब में है, लेकिन जब पब्लिक का ज्यादा दबाव आता है तब भी वह पैसा कमाने का कोई ना कोई नया रास्ता ढूंढ ही लेते हैं। इन दिनों बात कोरोना की चल रही है। प्राइवेट अस्पताल मरीजों से 1 दिन का ₹35000 से लेकर ₹100000 तक वसूल रहे थे।

मीडिया ने शोर मचाया तो मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश जारी किए और इंदौर कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने अस्पतालों के फीस और शुल्क फिक्स कर दिए। अस्पतालों ने कलेक्टर की रेट लिस्ट का पालन किया लेकिन हॉस्पिटल को हॉस्टल बना दिया। एक प्राइवेट रूम में एक की जगह दो बेड लगा दी है। कलेक्टर की रेट लिस्ट भी फॉलो हो रही है और एक कमरे से कमाई डबल।

INDORE में सबसे ज्यादा फीस वसूलने वाले एक प्राइवेट अस्पताल ने छठे फ्लाेर के 14 प्राइवेट रूम में से 10 में एक-एक पलंग बढ़ा दिया है। अब यहां 32 के बजाय 42 मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। शिकायत करने पर कहा जाता है कि कोविड मरीज बढ़ रहे हैं, एडजस्ट करना होगा।

पति पत्नी को एक ही रूम में रखा लेकिन किराया दोनों से पूरा-पूरा लिया

जावरा के वरुण श्रोेत्रिय को 24 अगस्त को रूम नं. 611 में रखा। दो दिन बाद पत्नी शशिप्रभा पॉजिटिव आईं। कागजों में शशि को रूम नं. 401 में भर्ती करना बताया, जबकि उन्हें वरुण के रूम में ही भर्ती किया। शशि के पेपर में सेमी प्राइवेट का जिक्र था, लेकिन चार्ज प्राइवेट का वसूला। वरुण ने बताया कि उनके रूम में पत्नी को ही रखा, इसलिए आपत्ति नहीं ली। बताते हैं कि शशि को जहां से शिफ्ट किया, वहां दूसरा मरीज भर्ती कर दिया। 

अस्पताल नहीं माना तो दूसरी जगह शिफ्ट हो गए

राऊ की सप्तश्रृंगी कॉलोनी के चंद्रशेखर परांजपे 28 अगस्त को एप्पल हॉस्पिटल के प्राइवेट रूम नंबर 617 में भर्ती हुए। इसी रूम में एक अन्य मरीज मित्तल को भी भर्ती कर दिया। दो दिन बाद मित्तल चले गए तो दूसरा मरीज आ गया। परांजपे ने आपत्ति ली तो सुनवाई नहीं हुई। इस पर वे 1 सितंबर को यहां से अरबिंदो शिफ्ट हो गए।

इंदौर के अस्पतालों में 2000 वाला रूम 3500 में वह भी आधा

हॉस्पिटल में सेमी प्राइवेट रूम का चार्ज आम दिनों में 2 से ढाई हजार रुपए होता है, उसे बढ़ाकर 3500 से 4500 कर दिया है। प्राइवेट रूम का अधिकतम 7500 था, उसे बढ़ाकर 10 हजार तक कर दिया है।

अस्पताल के रूम चार्ज में फूड इंक्लूड होता है लेकिन इंदौर में ₹950 एक्स्ट्रा

हॉस्पिटल के रूम चार्ज में चाय, नाश्ता और दोनों समय का भोजन शामिल है, लेकिन कोविड मरीजों से 500 रुपए मील और 450 रुपए डायटीशियन विजिट के अलग से वसूले जा रहे। यानी हर दिन मरीज को रूम रेंट के अलावा 950 रुपए अलग से देना पड़ रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *