कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश को इंदौर-3 से मिला टिकट, ऊषा ठाकुर को भेजा महू

इंदौर। इंदौर की राजनीति में सबसे बड़ा रुतबा रखने वाले कैलाश विजयवर्गीय ने एक बार फिर साबित कर दिया कि आखिर उन्हें क्यों इंदौर की राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ी कहा जाता है। इस बार उन्होंने बीजेपी के विचारधारा के खिलाफ ( परिवारवाद) के बावजूद अपने बेटे को टिकट दिलवा दिया।

आकाश विजयवर्गीय को सिटिंग विधायक ऊषा ठाकुर की जगह उतारा गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह क्षेत्र बीजेपी का गढ़ माना जाता है, और दूसरा की ऊषा ठाकुर को जहां से भी टिकट मिलता है, वह उस सीट पर जीत जाती है। लेकिन इस बार अम्बेडकर नगर ( महू) सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार अंतर सिंह दरबार ऊषा ठाकुर के मुकाबले क्षेत्र में अधिक सक्रिय है साथ ही साथ 2013 के चुनावो में काफी कम अंतर से कैलाश विजयवर्गीय से उनकी हार हुई थी।

बेटे को टिकट दिलवाकर कैलाश विजयवर्गीय ने साबित कर दिया कि संगठन में पदाधिकारी सरकारी पदों पर बैठे नेताओं से ज्यादा ताकतवर होता है। ऐसा माना जा रहा था कि लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के बेटे को भी टिकट मिल सकता है, लेकिन बीजेपी की तीसरी लिस्ट आने के बाद से अब ऐसी बातो पर विराम लग गया है।

बीजेपी के टिकट बटवारेे से एक बात तो साफ है कि पार्टी ने जितने नए उमीदवार उतारने को सोचा था, उसे इस बार झटका लगा है। बीजेपी ने पार्टी अंतर्कलह से बचने के लिए उन्ही उम्मीदवारों को उतारा है जो पहले से ही टिकट मांग रहे थे, फिर चाहे वो बाबूलाल गौर की बहू हो, सरताज सिंह हो और कैलाश विजयवर्गीय हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *