मॉनसून सत्र: विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित

नई दिल्ली। संसद का मॉनसून सत्र शुरू हो चुका है। इस सत्र के लिए सरकार ने जहां सदन चलाने को विपक्षी दलों से सहयोग मांगा है, वहीं कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी पार्टियां मोदी सरकार को घेरने की तैयारी में हैं। इस सत्र में कई अहम बिल लंबित हैं। सत्र के दौरान 40 बिल तो ऐसे हैं जिन्हें मोदी सरकार 2014 में सत्ता में आने के तुरंत बाद लेकर आयी थी, लेकिन अब भी उनके संसद से पारित होने का इंतजार है। मौजूदा माहौल में जब विपक्ष विभिन्न मुद्दों पर सरकार को सदन में घेरने की तैयारी कर रहा है, इन बिलों का पारित हो पाना मुश्किल लग रहा है।

मानसून सत्र LIVE UPDATES::::

– लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने मॉनसून सत्र की शुरुआत में सांसदों को खुशखबरी देते हुए बताया कि सदन में वाई-फाई की सुविधा शुरू कर दी गई है। सभी सदस्य रजिस्ट्रेशन के बाद इसका लाभ उठा सकेंगे। हालांकि सरकार का यह गिफ्ट विपक्षी सांसदों का दिल नहीं जीत सका और मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर जमकर हंगामा हुआ।

– विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यसभा की कार्यवाही आज दोपहर 12 बजे तक स्थगित।

– लोकसभा में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूछा अविश्वास प्रस्ताव से जुड़ा सवाल।

– लोकसभा में अभी परमाणु विद्युत संयंत्र से जुड़े सवाल का जवाब दे रहे हैं केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह।

– लोकसभा में विपक्षी दलों के सांसद लगा रहे हैं ‘वी वॉन्ट जस्टिस’ के नारे।

– सोनल मानसिंह, राकेश सिन्हा और रघुनाथ महापात्रा ने राज्यसभा के सदस्य के तौर पर ली शपथ।

– लोकसभा में विपक्ष के सांसदों ने शुरू किया हंगामा।

– मॉनसून सत्र की शुरुआत में लोकसभा में भारत माता की जय के नारे लगे।
– राज्यसभा में नए सांसद ले रहे हैं शपथ।

– लोकसभा में विपक्ष हंगामा कर रहा है। लोकसभा में विपक्ष हमें न्याय चाहिए के नारे लगाए जा रहे हैं।

– शास्त्रीय नर्तकी सोनल मानसिंह, लेखक राकेश सिन्हा और मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा ने राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ ली है।

– पीएम मोदी ने कहा है कि हर विषय पर चर्चा के लिए सरकार तैयार है। उन्होंने कहा है कि संसद की अच्छी छवि बननी चाहिए। मैं हर बार आशा प्रकट करता हूं और कोशिश करता हूं।

– सदन पहुंचने से पहले पीएम मोदी ने कहा है कि देश के कई महत्वपूर्ण मामलों पर चर्चा होना जुरूरी है। मैं आशा करता हूं कि सभी राजनीतिक दल सदन के समय का पूरा उपयोग करेंगे। उन्होंने कहा है कि सबका साथ मिलने से लाभ मिलेगा।

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद पहुंचे। अनंत कुमार ने किया स्वागत।

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थोड़ी देर बाद संसद पहुंचेंगे। सदन में जाने से पहले पीएम मोदी मीडिया से बातचीत भी करेंगे।

– इस सत्र में तीन तलाक विधेयक सरकार की शीर्ष प्राथमिकताओं में शामिल है। यह विधेयक लोकसभा से पारित होने के बाद राज्यसभा में लंबित है। सरकार का जोर अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने से संबंधित विधेयक को पारित कराने पर भी है। सरकार के एजेंडे में मेडिकल शिक्षा के लिए राष्ट्रीय आयोग विधेयक और ट्रांसजेंडर के अधिकारों से जुड़ा विधेयक भी है।

– आपराधिक कानून संशोधन विधेयक 2018 भी पेश किए जाने के लिए सूचीबद्ध किया गया है। इसमें 12 साल से कम आयु की लड़कियों से बलात्कार के दोषियों के लिए मृत्युदंड तक की सजा का प्रावधान किया गया है।

सरकार सदन में हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार : मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राजनीतिक दलों से संसद के मानसून सत्र का ज्यादा से ज्यादा सदुपयोग करने का आग्रह किया और कहा कि सरकार सदन में किसी भी मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार है। संसद परिसर में मोदी ने संवाददाताओं से कहा, “संसद के मानसून सत्र में आप सबका स्वागत है। कई मुद्दों पर चर्चा होनी है। मैं उम्मीद करता हूं कि सभी राजनीतिक दल सहयोग करेंगे और सत्र को सुचारू रूप से चलने देंगे।”

उन्होंने कहा, “सरकार सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है।” उन्होंने सभी राजनीतिक दलों से मानसून सत्र के समय का ज्यादा से ज्यादा समय का सदुपयोग करने का और राज्य विधानसभाओं के लिए एक उदाहरण पेश करने का भी आग्रह किया।

संसद सत्र को सुचारू रूप से चलाने के लिए कल केंद्र सरकार ने सर्वदलीय बैठक भी बुलाई थी और संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा था कि विपक्षी दलों ने सदन में सहयोग करने का भरोसा दिया है। हालांकि इसके आसार भी कम ही दिख रहे हैं क्योंकि मानसून सत्र के पहले दिन ही कांग्रेस मॉब लिंचिंग और महिला सुरक्षा जैसे अहम मुद्दों को सदन में उठा सकती है जिस पर संसद में हंगामा होना तय है।

मानसून सत्र को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खडग़े ने कहा, कांग्रेस इस सत्र के दौरान मॉब लिंचिंग और महिला सुरक्षा समेत कई मुद्दों को उठाएगी लेकिन सत्र को सफल बनाने के लिए सरकार का सहयोग भी करेगी। उन्होंने कहा, हमें उम्मीद है कि देश के महत्वपूर्ण मुद्दे उठाने दिए जाएंगे। खडग़े ने कहा, हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि सरकार पिछले चार सालों में अपने वादे पूरे करने में नाकाम रही है।

मोदी सरकार की असफलताओं और तमाम दूसरे मुद्दों पर एनडीए की सहयोगी रह चुकी तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) अविश्वास प्रस्ताव ला सकती है। टीडीपी ने मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर दूसरी विपक्षी पार्टियों से समर्थन मांगा है। टीडीपी ने अविश्वास प्रस्ताव के लिए एक नोटिस दिया है। टीडीपी के तीन सांसदों का प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को हैदराबाद से पटना पहुंचा था। तीनों सांसद राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू प्रसाद से मिले।

Khaskhabar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *