Azamgarh के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह को मारी गई थी 25 गोलियां, आरोपियों की खोज जारी

Azamgarh जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में अभी पुलिस के हाथ खाली हैं. पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की हत्या विधायक कृष्णानंद राय मर्डर केस की याद ताजा कराती है. उस समय कृष्णानंद राय पर भी गोलियों की बौछार हुई थी.

अजीत सिंह पर तीन लोगों ने गोलियों की बौछार कर दी. शरीर के जिस जिस हिस्से में गोली लगने से एक इंसान की मौत हो जाती है, अजीत सिंह के हर उस हिस्से में गोली मारी गयी है. यानी मकसद साफ था, बचने नहीं देना है. हालांकि 25 गोलियां मारने का मतलब सिर्फ मौत को ही सुनिश्चित करना नहीं था.

यूपी पुलिस के डीजीपी से रिटायर हुए विक्रम सिंह ने कहा कि इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद भी अपने टारगेट को 6 गोलियां मारती है. 5 सीने में और एक खोपड़ी में. किसी इंसान की मौत के लिए ये काफी है. फिर अजीत सिंह को 25 क्यों? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इसके पीछे दहशत कायम करना बड़ा मकसद दिखाई दे रहा है.

पुलिस ने इस केस में कुंटू सिंह, अखंड प्रताप सिंह और गिरधारी विश्वकर्मा और तीन अज्ञात पर एफआईआर दर्ज की है. मामले की जांच के लिए 5 टीमें लगाई गई हैं. मऊ, आजमगढ़ और पूर्वांचल के जिलों में भेजी गई हैं. सर्विलांस पर भी काम किया जा रहा है.

लखनऊ के पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने कहा जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी. 2 साजिशकर्ता कुंटू सिंह और अखंड प्रताप सिंह फिलहाल जेल में ही बंद हैं. 

Also Read: Love Jihad बिल को मध्यप्रदेश सरकार ने दी मंजूरी, 10 साल की सजा का प्रावधान

Also Read: Indore में राम मंदिर के लिए चंदा लेने निकली रैली पर पथराव, उज्जैन में भी हुआ था पथराव

Source: News18

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *