India China Border Clash में 20 भारतीय सैनिक शहीद

India china border clash

India China Border Clash: लद्दाख में भारत और चीन सेना के बीच सीमा पर हुए हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक 43 चीनी सैनिक भी झड़प में हताहत हुए है.

सोमवार शाम को पूर्वी लद्दाख सीमा (Ladakh Border) पर दोनों सेनाओं के बीच यह झड़प, अपने सीमाओं में वापस आते समय हुआ था. जिसके बाद मंगलवार दोपहर में भारतीय रक्षा मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया था कि 1 सैन्य अधिकारी समेत 1 जवान शहीद हो गए.

शाम को सेना (Army) से अपडेट देते हुए बताया कि झड़प में गंभीर रूप से घायल 20 सैनिकों की मौत हो गई है. वहीं समाचार एजेंसी ANI ने बताया कि चीन के भी करीब 43 सैनिक इस झड़प में हताहत हुए है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पीएम मोदी को दी जानकारी

एएलएसी (LAC) के नजदीक लद्दाख की गलवान घाटी में भारत-चीन सैनिकों के बीच चल रही झड़प के बारे में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जानकारी दी.

 इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारत और चीन सीमा पर पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में दोनों सेनाओं के जवानों के बीच हिंसक झड़प के कारण उत्पन्न स्थिति पर शीर्ष सैन्य नेतृत्व के साथ लगातार दो बैठकों में चर्चा की.

विदेश मंत्रालय ने कहा- चीन के कारण बिगड़े हालात

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प क्षेत्र में ”यथास्थिति” को एकतरफा तरीके से बदलने के चीनी पक्ष के प्रयास के कारण हुई. 

मंत्रालय ने कहा है कि पूर्व में शीर्ष स्तर पर जो सहमति बनी थी, अगर चीनी पक्ष ने गंभीरता से उसका पालन किया होता तो दोनों पक्षों की ओर जो हताहत हुए हैं उनसे बचा जा सकता था.

चीन सीमा पर 45 साल बाद सैनिकों की शहादत

इससे पहले 1975 में अरुणाचल में भारत और चीन के सैनिकों के बीच भिड़ंत में चार जवान मारे गए थे. हालांकि सामान्य तौर पर 1967 के सिक्किम में हुए संघर्ष को दोनों देशों के बीच आखिरी खूनी संघर्ष के तौर पर माना जाता है.

तब सीमा पर हुई थी गोलीबारीअरुणाचल प्रदेश के तुलुंग ला इलाके में तब असम रायफल्स के चार जवान चीनी सैनिकों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए थे. उस वक्त चीनी सैनिकों ने एलएसी पार की और गश्त कर रहे 20 अक्तूबर 1975 को भारतीय जवानों पर हमला किया. चीन ने तब भारत पर एलएसी पार करने के बाद आत्मरक्षा में गोली चलाने का बहाना बनाया था.

Also Read: Ladakh Border: लद्दाख में पीछे हटे चीनी सैनिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *