2019 चुनावो से पहले हुए कर्नाटक निकाय चुनाव में कांग्रेस बनी सबसे बड़ी पार्टी

बेंगलुरू। कर्नाटक में सोमवार को 105 शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) के लिए मतों की गिनती सुबह 8 बजे से शुरू हो गई। एक सर्वेक्षण अधिकारी ने कहा कि 31 अगस्त को हुए निकाय चुनावों के परिणाम आज देर शाम तक या मंगलवार सुबह तक आने की उम्मीद है।

अभी तक घोषित 2267 सीटों के नतीजों में कांग्रेस बढ़त में है। कांग्रेस ने 846, बीजेपी ने 788, जेडीएस ने 307 और निर्दलीयों ने 277 सीटों पर जीत दर्ज की है। बीजेपी तीनों नगर निगमों शिमोगा, मैसूर, तुमकुर में आगे है। राज्य की एचडी कुमारस्वामी की सरकार पर भले ही इसके नतीजों का कोई असर न हो पर 2019 से पहले कार्यकर्ताओं का मनोबल ऊंचा रखने के लिए जीत जरूरी है।

LIVE अपडेट :::::::

11:43 AM
संकेश्वर नगरपालिका में कांग्रेस और बीजेपी ने 11 वार्डों में जीत हासिल की। एक सीट निर्दलीय के खाते में। अब निर्दलीय अजीत कराजगी नगर पालिका में रूलिंग पार्टी के निर्णय के लिए किंगमेकर की भूमिका में होंगे।

11:30 AM
जेवारगी में गिनती समाप्त। 23 सीटों में से 21 पर परिणाम की घोषणा हुई। इनमें बीजेपी को 16, कांग्रेस को 3 और जेडीएस को 2 सीटें मिलीं। वहीं अलांद की कुल 27 सीटों में से बीजेपी ने 13 में जीत दर्ज की। कांग्रेस ने 13 और जेडीएस को 1 पर जीत मिली।

11:15 AM
मैसूर नगर निगम में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभर रही है। निप्पनी नगर पालिका के सभी 31 वार्डों में निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की। यह बीजेपी विधायक शशिकला जोले का गृहजनपद है।

11:02 AM
बंतवाल कस्बा नगर पालिका परिषद के 27 वार्डों में से 12 सीटें कांग्रेस, बीजेपी को 11, एसडीपीआई को 4 सीटें मिलीं। जेडीएस के जिलाध्यक्ष और चार बार पार्षद रहे चेलुवेगौड़ा को लोकनायकनगर के वॉर्ड नंबर 4 से निर्दलीय उम्मीदवार पैलवान श्रीनिवास से हार मिली।

10:55AM
पुत्तुर में 31 वार्डों में से बीजेपी ने 25 सीटों पर जीत दर्ज की, कांग्रेस को 5 और एसडीपीआई को 1 सीट मिलीं। वहीं उल्लाल में 31 वार्डों में से कांग्रेस को 13 सीटें, बीजेपी को 6, एसडीपीआई को 6 और जेडी (एस) को 4 और निर्दलीय को 2 सीटों पर जीत मिली।

10:30AM
हसन में जेडीएस ने 31 वार्डों में से अब तक 6 पर जीत दर्ज की है। चन्नापटना में भी 2 सीटों पर जेडीएस जीत हासिल कर चुकी है। वहीं, अन्य निकायों में बीजेपी और कांग्रेस के बीच नजदीकी मुकाबला है। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को उम्मीद है कि 50 फीसदी सीटें भी अगर कांग्रेस-जेडीएस मिलकर जीतती हैं तो भी यह काफी होगा।

Khaskhabar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *