बाएं कंधे पर पल्लू क्यों – PM Modi ने बताया कारण

पीएम मोदी (Pm Modi) ने पश्चिम बंगाल के शांति निकेतन स्थित विश्व भारती विश्वविद्यालय के 100 साल पूरे होने पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बताया कि आखिर क्यों बाएं कंधे पर पल्लू पहनते है?

पीएम मोदी ने कहा, रुदेव रविंद्रनाथ टैगोर से जुड़ी बाते बताते हुए एक रोचक जानकारी दी. उन्होने कहा, रवीन्द्र नाथ टैगौर के भाई ‘सत्येंद्र नाथ टैगोर जी की पत्नी ज्ञाननंदनी देवी जी थी. जब अहमदाबाद में रहती थीं तो उन्होंने देखा कि वहां की स्थानीय महिलाएं अपनी साड़ी के पल्लू को दाहिने कंधे पर रखती थीं.ट

अब दायें कंधे पर पल्लू से महिलाओं को काम करने में भी कुछ दिक्कत होती थी. ‘यह देखकर ज्ञाननंदनी देवी ने आइडिया निकाला कि क्यों ने साड़ी के पल्लू को बांये कंधे पर रखा जाए. मुझे ठीक-ठीक तो नहीं याद है लेकिन कहते हैं कि बांये कंधे पर साड़ी का पल्लू उन्हीं का देन है.

कौन थी ज्ञाननंदनी देवी?
टैगोर परिवार की बहू ज्ञाननंदनी देवी रविंद्रनाथ टैगोर के बड़े भाई सत्येंद्रनाथ टैगोर की पत्नी थीं. वह 1863 में भारतीय सिविल सर्विस में जाने वाली पहली भारतीय थीं.

दरअसल ज्ञाननंदनी देवी ने अपनी इंग्लैंड और बॉम्बे की यात्राओं के अनुभवों और पारसी गारा पहनने के तरीकों को मिलाकर साड़ी पहनने का तरीका निकाला जो आज भी भारत में प्रचलन में है. बताते हैं कि सबसे पहले इसे ब्रह्मसमाज की औरतों ने अपनाया था इसलिए इसे ब्रह्मिका साड़ी कहा गया.

Also Read: 25 दिसंबर को आएगी PM Kisan Nidhi की 7वीं किश्त

Also Read: Farmers Protest: सरकार और किसानों के बीच नहीं बनी बात, किसानों ने कहा सरकार तोड़ना चाहती हैं मनोबल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *