प्रधानमंत्री ने SAARC देशों के साथ कोरोना वायरस पर की बातचीत

www.expertkhabari.com

चीन से फैला कोरोना वायरस पूरी दुनिया में तेजी से पांव पसार रहा है। कोरोना वायरस के वैश्विक असर को देखते हुए रविवार को सार्क देशों के सदस्यों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रणनीति पर चर्चा की। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, सार्क देशों के नेताओं और प्रतिनिधियों ने कोरोना वायरस से निपटने के लिये रणनीति बनाने को लेकर वीडियो कांफ्रेंस में हिस्सा लिया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि दक्षेस क्षेत्र में कोरोना वायरस से संक्रमण के लगभग 150 मामले आए हैं, लेकिन हमें सतर्क रहने की जरूरत है। तैयार रहें लेकिन घबराएं नहीं..यही हमारा मंत्र है। विकासशील देशों के सामने यह बड़ी चुनौती है। हमने इससे निपटने के लिए समय-समय पर कदम उठाए हैं। दरअसल, कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए पीएम मोदी ने सार्क (दक्षेस) देशों के सदस्यों को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए रणनीति बनाने और चर्चा करने का प्रस्ताव दिया था।

इमरान सरकार की थपथपाई पीठ

पाक में कोरोना के अब तक 28 मामलों की पुष्टि हुई है। वहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना से निपटने में अपने सरकार के प्रयास की जमकर सराहना की। उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान कोविड-19 के फैलाव को सीमित करने में अब तक सफल रहा है। WHO ने इसकी प्रशंसा की है।’ जफर ने बताया कि पीएम इमरान खान ने खुद कोरोना के खिलाफ चल रही तैयारियों पर नजर रखी हुई है जिसका नतीजा यह हुआ है कि हम इसे सीमित रखने में कामयाब रहे हैं। जफर ने बताया कि पाक उपयुक्त कदम उठा रहा है चाहे सीमा सील करना हो या अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रेग्युलेट करना। अंतरराष्ट्रीय यात्राओं को रेग्युलेट करना हो आइसोलेशन वार्ड बनाना। उन्होंने बताया कि देश में सिर्फ 3 अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से फिलहाल उड़ान की इजाजत दी जा रही है।

पीएम मोदी ने और क्या कहा
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जैसा कि हम सभी जानते हैं, COVID-19 को हाल ही में WHO द्वारा महामारी घोषित किया गया है। अब तक, हमारे क्षेत्र ने कोरोना वायरस के 150 से कम मामले सामने आए हैं। लेकिन हमें सतर्क रहने की जरूरत है। हमने विभिन्न देशों से लगभग 1400 भारतीयों को निकाला। हमने अपनी ‘पड़ोस पहले नीति’ के अनुसार आपके कुछ नागरिकों की मदद की है।

Source Courtsey : Hindustan and Navbharat

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *